History of Chamba in Himachal Pradesh

District Chamba

इतिहास ऐतिहासिक स्रोत और इतिहास – कल्हण द्वारा रचित ‘राजतरंगिणी’ में हमें चंबा के राजाओं के बारे में विवरण मिलता है। उपलब्ध अभिलेखों में पाषाण अभिलेख, शिला अभिलेख तथा ताम्रपत्र अभिलेख प्रमुख हैं। पत्थर के शिलालेख गुप्त काल के बाद 7 वीं शताब्दी के हैं। इसके अलावा शाही वंशावलियाँ भी इतिहास पर प्रकाश डालती हैं। भद्र-सल्वा, यौधेय, औदुम्बरा और किरात ने चंबा क्षेत्र में अपने प्राचीन गणतांत्रिक कुलों की स्थापना की। इंडो-यूनानियों और शक कुषाणों ने इन जनजातियों को अपने नियंत्रण में ले लिया और उनकी शक्ति को कमजोर कर दिया। इन क्षेत्रों को बाद में अपठाकुराई और राहुण के नाम से जाना गया और उनके शासकों को ‘ठाकुर’ और ‘राजा’ कहा गया। मेरुवर्मन ने राणाओं से रावी घाटी के ऊपरी क्षेत्रों को जीत लिया, जिसका वर्णन मेरुवर्मन के अधीन ‘आषाढ़’ (आस्था) नामक जागीरदार के साक्ष्य से मिलता है। 10वीं और 11वीं शताब्दी के दौरान रावी घाटी के निचले क्षेत्र भी चंबा साम्राज्य के अधीन आ गए। चतर सिंह (1664-90) ने पादार क्षेत्र राणाओं पर अपना अधिकार स्थापित कर लिया था। राणाओं का वर्णन करने वाला अंतिम ताम्रपत्र शिलालेख राजा आशा वर्मन (1080-1100) के शासनकाल के दौरान जारी किया गया था। ह्वेन त्सांग के अनुसार, चंबा, मंडी और सुकेत क्षेत्र (लगभग 635 ईस्वी) जालंधर राज्य के अंतर्गत आते थे।

चंबा भारत के हिमाचल प्रदेश प्रान्त का एक नगर है। हिमाचल प्रदेश का चंबा अपने रमणीय मंदिरों और हैंडीक्राफ्ट के लिए सर्वविख्यात है। रवि नदी के किनारे 996 मीटर की ऊँचाई पर स्थित चंबा पहाड़ी राजाओं की प्राचीन राजधानी थी। चंबा को राजा साहिल वर्मन ने 920 ई. में स्थापित किया था। इस नगर का नाम उन्होंने अपनी प्रिय पुत्री चंपावती के नाम पर रखा। चारों ओर से ऊंची पहाड़ियों से घिरे चंबा ने प्राचीन संस्कृति और विरासत को संजो कर रखा है। प्राचीन काल की अनेक निशानियां चंबा में देखी जा सकती हैं।

जाब ‘जाब’, चंबा का अरबी नाम है। इसके जाफ, हाब, आब और गाँव नाम भी हैं। इसकी प्राचीन राजधानी ब्रह्मपुर (वयराटपट्टन) थी। हुएनत्सांग ने इसका वर्णन करते हुए लिखा है कि यह अलखनंदा और करनाली नदियों के बीच बसा है। कुछ काल बाद इस प्रदेश की राजधानी चंबा हो गई। 15 अप्रैल 1948 में इसका विलयन भारत सरकार द्वारा शासित हिमाचल प्रदेश में हो गया।

अरब लेखकों ने सामान्यत: चंबा के सूर्यवंशी राजपूत शासकों को ‘जाब’ की उपाधि के साथ लिखा है। हब्न रुस्ता का मत है कि यह शासन सालुकि वंश के थे परंतु राजवंश की उत्पत्ति के संबंध में विद्वानों में मतभेद है। ८४६ ई. में सर्वप्रथम हब्न खुर्रदद्बी ने ‘जाब’ का प्रयोग किया, पर ऐसा लगता है कि इस शब्द की उत्पत्ति अरब साहित्य में इससे पूर्व हो चुकी थी। इस प्रकार यह प्रामाणिक माना जाता है कि चंबा नगर ९ वीं शताब्दी के प्रथम दशक में विद्यमान था। इब्न रुस्ता ने लिखा है कि चंबा के शासक प्राय: गुर्जरों और प्रतिहारों से शत्रुता रखते थे

चम्बा उतरी भारत का एकमात्र राज्य है जो लगभग 500 ई0 से एक सही ढंग से प्रलेखित इतिहास को संरक्षित करता है। इसकी उच्च पर्वत श्रृंखलाओं ने इसे आश्रय प्रदान किया है और इसके वर्षो पुराने अवशेषों व शिलालेखों को संरक्षित करने में सहायता की है। चम्बा के राजाओं द्वारा हजारों साल से अधिक स्थापित मन्दिरों की पूजा के अधीन रहना और उसके द्वारा ताम्बे की प्लेटों पर किये गये भूमि अनुदान कर्मो को कानून के तहत वैद्य होना जारी है।

इस क्षेत्र के प्रांरभिक इतिहास के बारे में यह माना जाता है कि इस क्षेत्र में कोलीयन जनजातियों का निवास था। जो बाद में खसों के अधीन हो गये थे। खस के बाद आडुम्बर्स (2 ई0 पूर्व) प्रभाव में आये थे। आडुम्बर्स में गणराज्य सरकार का शासन था। और शिव की वे प्रमुख देवता के रुप में पूजा करते थे। गुप्त काल (4 शताब्दी) से चम्बा क्षेत्र ठाकुर और राणों के नियंत्रण में था। जो स्वयं को कोलियों और खसों की कम जनजातियों से वेहतर माना जाता था। गुज्जर प्रतिहारों (7वीं शताब्दी) के उदय के साथ राजपूत राजवंश सता में आए।

लगभग 500 ई0 पौराणिक मारु नामक एक महान नायक कल्पग्राम से उतर पश्चिम मे चले गये (एक पौराणिक स्थान जहां से राजपूत साम्राज्यों के अधिकार जिसका लोग अपने वंश का दावा करते है) और वर्तमान चम्बा शहर के पूर्व में 75 कि0 मी0 दूर बुदल नदी की घाटी मे ब्रह्यपुर (भरमौर) की स्थापना की। उसके उतराधिकारियों ने 300 से अधिक वर्षो के लिए उस राजधानी शहर से देश पर शासन करना जारी रखा जब तक कि साहिल वर्मन ने अपनी राजधानी ब्रह्यमपुत्र से नीचे की रावी घाटी में अधिक केन्द्रित भू-भाग तक स्थानांतरित कर दिया। उन्होंने अपनी प्यारी वेटी चम्पा के नाम से शहर का नाम रखा। उनकी रानी स्वेच्छा से खुद को एक बलिदान के रुप में प्रस्तुत करती थी, जिसने एक बहने वाली नाली के जरिए शहर के लोगों के लिए पानी उपलब्ध करवाया था, जोकि भलोटा नामक स्थान पर उत्पन्न होता है। चम्बा योजना का प्रवन्ध प्राचीन ग्रंथो के अनुरुप है। तब से चम्बा के राजवंशों के वंश ने यहां से एक निरंतर और सीधी रेखा में शासन करना जारी रहा।

मुस्लिमों ने कभी चम्बा पर हमला नहीं किया हालांकि इसके पडोसी राज्यों में समान संस्कृति की पृष्ठ भूमि वाले सामायिक झगडे थे। इस प्रकार इन आक्रमणों से चम्बा को शायद ही कभी गंभीर नुकसान हुआ। और मुरम्मत की संभावना से परे कभी भी नहीं था। यहां तक कि शक्तिशाली मुगलों को संचार और लम्बी दूरी से जुडी कठिनाईयों के कारण खाडी में रखा गया था। अकबर ने चम्बा सहित पहाडी राज्यों और धौलाधार के दक्षिण में शाही क्षेत्र के लिए इन राज्यों के उपजाऊ इलाकों को नियंत्रित करने की कोशिश की। औरगजेव ने एक बार चम्बा के राजा चतर सिंह (1664-1694 ई0) को आदेश दिया कि वह चम्बा के सुन्दर मन्दिरों को हटा दें। लेकिन इसके वाबजूद मुगल शासक की आज्ञा का स्पष्ट उल्लघंन करते हुए राजा ने मन्दिरो पर चकाचौंध लगा दी। उन्हें शाही क्रोध का सामना करने के लिये दिल्ली आने का आदेश दिया गया। 

 लेकिन औंरगजेव को खुद को दक्कन के लिए छोडना पडा, जहां से वह अपने जीवन के अंत तक विमुख नहीं सके। सम्पूर्ण उतरी भारत ने मुगल शासन काल में राजा पृथ्वी सिंह (1641-1664 ई0) के दौरान तुलनात्मक रुप से शांतिपूर्ण स्थिति का अनुभव किया, एक सुन्दर और शूरवीर रात शाहजहां की पसंदीदा थी और कई बार उन्होंने शाही अदालत का दौरा किया था। उन्होंने चम्बा मे मुगल राजपूत कला और वास्तुकला समेत अदालती जीवन की मुगल शैली की शुरुआत की।

18वीं शताब्दी की आखिरी तिमाही तक सिखों ने पहाडी राज्यों को श्रद्धाजंलि अर्पित करने के लिए मजवूर किया। महाराजा रणजीत सिंह ने व्यवस्थित रुप से पहाडी मूल्यों की ओर अधिक शक्तिशाली कांगडा शासक संसार चन्द कटोच समेत हटा दिया था। लेकिन सेवाओं के वदले चम्बा को छोडकर बजीर नाथू (चम्बा के) ने उन सेवाओं के बदले दो विशेष अवसर प्रदान किये थे। 1809 ई0 में वजीर ने राजा संसार चन्द कटोच के साथ अपने समझौते पर बातचीत करके महाराजा को खुद को कांगडा का उपयोगी बनाया था। फिर भी 1817 ई0 में उन्होंने कश्मीर मे सदियों से पहले के अभियान के दौरान एक महत्वपूर्ण क्षण में अपने घोडे की पेशकश करके रणजीत सिंह के जीवन को बचाया। रणजीत सिंह की मृत्यु के बाद चम्बा अन-संरक्षित बन गया और इसे सिख राज्य के विघटन के भंवर में खींचा गया। सिख सेना ने 1845 ई0 में ब्रिटिश क्षेत्र पर हमला किया और चम्बा में तैनात सिख सेना के सैनिकों को तैयार किया गया। जव सिखां को हराया गया था। तो इसे जम्मू और कश्मीर मे चम्बा को विलय करने का निर्णय लिया गया था। लेकिन बजीर नाथ के समय पर हस्तक्षेप के कारण इसे ब्रिटिश नियंत्रण के तहत लिया गया था। और जो 1200 रुपये वार्षिक उपहार के अधीन था। जिन राजाओं के ब्रिटिश वर्चस्व को कुछ देखा, उनमें से श्री गोपाल सिंह, शाम सिंह, भूरी सिंह, राम सिंह और लक्ष्मण सिंह थे। ब्रिटिश राजनीतिक अधिकारियों के साथ उनके संबंध सौहार्दपूर्ण प्रतीत होते हैं। और चम्बा में कई सुधारों को देखा है।

15 अप्रैल, 1948 को तीन प्रमुख राज्यों को मिलाकर पुराने हिमाचल का निर्माण हुआ। चम्बा, मण्डी-सुकेत, सिरमौर और अन्य सभी राज्य शिमला पहाडियां में पडते है।

राजा साहिल वर्मन से पहले चम्बा क्षेत्र को टुकडो में विभाजित किया गया था, जिसे रहनू नामक राणों और छोटे से सरदारों द्वारा कब्जा कर लिया गया था, जो एक-दूसरे के साथ लगातार युद्ध करते थे। राजा साहिल वर्मन ने राणाओं को अपनाया और क्षेत्र को एक जुट किया। इसलिए राजा ने बेहतर प्रशासन के लिए चम्बा को मण्डल के रुप में जानने के लिये 5 क्षेत्रों में विभाजित किया। इन मण्डल को बाद में विजारत के रुप में नाम दिया गया। चम्बा क्षेत्र का यह पांच गुना विभाजन आज भी जारी है। विजारतें को अब तहसील कहा जाता है। ये भरमौर, चम्बा, भटियात, चुराह और पांगी है। 

चंबा रियासत की स्थापना- 550 ई. में चंबा रियासत की स्थापना। इसे अयोध्या से आए सूर्यवंशी राजा मारू ने कराया था। मारू ने भरमौर (ब्रह्मपुर) को अपनी राजधानी बनाया। ● आदित्य वर्मन (620 ईस्वी) – आदित्य वर्मन का उल्लेख उनके प्रपौत्र मेरु वर्मन (680 ईस्वी) के भरमौर शिलालेख में मिलता है। आदित्य वर्मन पहले राजा थे जिन्होंने सबसे पहले अपने नाम के आगे वर्मन का उपनाम जोड़ा। कुल्लू के इतिहास में सबसे पुराना उल्लेख संभवत: आदित्य वर्मन का है। इसके बाद बाला वर्मन (640 ईस्वी) और दिवाकर वर्मन (660 ईस्वी) चंबा के राजा बने। ● मेरु वर्मन (680 ई.) – मेरुवर्मन भरमौर के सबसे शक्तिशाली राजा बने। मेरुवर्मन ने अपने राज्य को वर्तमान चंबा शहर तक बढ़ाया। उसने कुल्लू के राजा दत्तेश्वर पाल को हराया। मेरुवर्मन ने मणिमेहश मंदिर, लक्षना देवी मंदिर, गणेश मंदिर, भरमौर में नरसिंह मंदिर और छत्रडी में शक्तिदेवी मंदिर का निर्माण कराया। गुग्गा शिल्पी मेरुवर्मन का प्रसिद्ध शिल्पी था। गाम नामक स्थान पर मिले आषाढ़ (आस्था) नामक सामंत राजा के शिलालेख में मेरुवर्मन का वर्णन मिलता है। अजयवर्मन (760 ई.)- गद्दीयों के अनुसार अजयवर्मन के समय में वह दिल्ली से आकर भरमौर में बस गया। लक्ष्मीवर्मन। (800 ई.)- लक्ष्मीवर्मन के समय में राज्य में हैजे की महामारी फैली, जिससे अनेक लोगों की मृत्यु हुई। उसी समय किरातों (तिब्बतियों) ने चंबा (ब्रह्मपुर) पर आक्रमण कर राजा को मार डाला और राज्य पर अपना अधिकार स्थापित कर लिया। इस स्थिति का लाभ उठाकर कुल्लू के शरणार्थी राजा जरेश्वर पाल ने बुशहर रियासत की सहायता से स्वयं को स्वतंत्र कर लिया।

राजाराला मान का अजयवर्मन नाम (760 ई.) – गद्दीयों के अनुसार वह अजयवर्मन के समय दिल्ली से आया और भरमौर में बस गया। लक्ष्मीवर्मन (800 ई.)- लक्ष्मीवर्मन के समय में राज्य में हैजे की महामारी फैली जिससे अनेक लोगों की मृत्यु हुई। उसी समय किरातों (तिब्बतियों) ने चंबा (ब्रह्मपुर) पर आक्रमण कर राजा को मार डाला और राज्य पर अपना अधिकार स्थापित कर लिया। इस स्थिति का लाभ उठाकर कुल्लू के शरणार्थी राजा जरेश्वर पाल ने बुशहर रियासत की सहायता से स्वयं को स्वतंत्र कर लिया। मुसनवर्मन (820 ई.) – लक्ष्मीवर्मन की मृत्यु के बाद रानी राज्य छोड़कर भाग गई और उसने एक गुफा में पुत्र को जन्म दिया। रानी अपने पुत्र को गुफा में छोड़कर आगे बढ़ गई। लेकिन जब रानी की सच्चाई जानने के बाद वजीर और पुजारी गुफा में लौटे तो उन्होंने कई चूहों को बच्चे की रक्षा करते हुए पाया। यहीं से राजा का नाम ‘मुसना वर्मन’ पड़ा। रानी और मुसनवर्मन सुकेत के राजा के साथ रहे। सुकेत के राजा ने अपनी पुत्री का विवाह मुसनवर्मन से कर दिया और उसे दहेज में पांगना की जागीर दे दी। मुसन वर्मन ने सुकेत की सेना के साथ ब्रह्मपुर पर पुनः अधिकार कर लिया। मुसनवर्मन ने अपने शासनकाल में चूहों को मारने पर प्रतिबंध लगा दिया था।

साहिलवर्मन। (920 ई.)- साहिलवर्मन (920 ई.) ने चम्बा शहर की स्थापना की। राजा साहिल वर्मन के दस पुत्र और चम्पावती नाम की एक पुत्री थी। उन्होंने चंबा शहर का नाम अपनी बेटी चंपावती के नाम पर रखा। उन्होंने राजधानी को ब्रह्मपुर से चंबा स्थानांतरित कर दिया। साहिलवर्मन की पत्नी रानी नैना देवी ने शहर में पानी की व्यवस्था के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी। तब से रानी नैना देवी की याद में यहां हर साल सूही मेला मनाया जाता है। यह मेला महिलाओं और बच्चों के लिए प्रसिद्ध है। राजा साहिलवर्मन ने लक्ष्मी नारायण, चंद्रशेखर (साहू) चंद्रगुप्त और का युगांकर वर्मन साहिल वर्मन के सबसे बड़े पुत्र थे। साहिल वर्मन ने अपने कार्यकाल के दौरान तांबे की मुद्रा ‘चकली’ की शुरुआत की। साहिल वर्मन के बारे में जानकारी राजा सोमवर्मन और अस्तुवर्मन के ताम्रपत्र शिलालेख से मिलती है। योगी चरपटनाथ राजा साहिल वर्मन के गुरु थे। मुनियों के 84 वरदान से, भरमौर में राजा साहिल वर्मन के 10 बेटे और एक बेटी थी। इन साधुओं के नेता योगी चरपटनाथ थे। साहिल वर्मन की एच.पी. से निकालने का श्रेय दिया जाता है। राजधानी को भरमौर से चंबा में बदलने का सुझाव राजा साहिल वर्मन को योगी चरपटनाथ ने दिया था।

युगंकर वर्मन (940 ई.)- युगांकर वर्मन (940 ई.) की पत्नी त्रिभुवन रेखा देवी ने भरमौर में नरसिंह मंदिर का निर्माण करवाया। युगांकर वर्मन ने चंबा में गौरी शंकर मंदिर का निर्माण करवाया।

सल्वाहन वर्मन (1040 ई.) – राजतरंगिणी के अनुसार कश्मीर के शासक अनंतदेव ने सालवाहन वर्मन के समय भरमौर पर आक्रमण किया। शाल्वाहन वर्मन के शासन काल के शिलालेख प्राप्त हुए हैं, जिनसे ज्ञात होता है कि उस समय तिस्सा परगना और सीकोठी बलार (बसौली) राज्य में थे। अनंत देव से युद्ध करते हुए शाल्वाहन वर्मन की मृत्यु हो गई। उसके बाद उसके पुत्र सोमवर्मन (1060 ईस्वी) और अस्तुवर्मन (1080 ईस्वी) राजा बने। अस्तुवर्मन ने अपनी बहन वापिका का विवाह अनंतदेव के पुत्र कलश से किया। कलश का पुत्र हर्ष बाद में कश्मीर का राजा बना।

जसता (जयष्ट) वर्मन (1105 ई.) – पांगी और चुराह के लौह टिकरी अभिलेखों (1114 ई. की तिथि) के अनुसार जसता वर्मन 1105 ई. में रहा था। मैं राजा बन गया। पांगी और चुराह (तिस्सा) क्षेत्र उनके समय में चंबा राज्य का हिस्सा बन गए थे। जसता वर्मन का उल्लेख 1112 ई. में मिलता है। मैंने इसे राजतरंगिणी में भी पाया है। जसता वर्मन ने लहार वंश के सुषला के खिलाफ कश्मीर के राजा हर्ष की मदद की। पांगी अभिलेख के अनुसार जसता वर्मन ने 1105 ई. उदयवर्मन (1120 ई.) उदयवारी के समय लाहौल घाटी का आधिपत्य बना रहा।

चंबा जिले का मानचित्र 

चंबा जिले के आकर्षक स्थान

चंपावती मंदिर

यह मंदिर राजा साहिल वर्मन की पुत्री को समर्पित है। यह मंदिर शहर की पुलिस चौकी और कोषागार भवन के पीछे स्थित है। कहा जाता है कि चंपावती ने अपने पिता को चंबा नगर स्थापित करने के लिए प्रेरित किया था। मंदिर को शिखर शैली में बनाया गया है। मंदिर में पत्थरों पर खूबसूरत नक्काशी की गई है और छत को पहिएनुमा बनाया गया है।

लक्ष्मीनारायण मंदिर 

यह मंदिर पांरपरिक वास्तुकारी और मूर्तिकला का उत्कृष्‍ट उदाहरण है। चंबा के 9 प्रमुख मंदिरों में यह मंदिर सबसे विशाल और प्राचीन है। कहा जाता है कि सवसे पहले यह मन्दिर चम्बा के चौगान में स्थित था परन्तु बाद में इस मन्दिर को राजमहल (जो वर्तमान में चम्बा जिले का राजकीय महाविद्यालय है) के साथ स्थापित कर दिया गया। भगवान विष्णु को समर्पित यह मंदिर राजा साहिल वर्मन ने 10 वीं शताब्दी में बनवाया था। यह मंदिर शिखर शैली में निर्मित है। मंदिर में एक विमान और गर्भगृह है। मंदिर का ढांचा मंडप के समान है। मंदिर की छतरियां और पत्थर की छत इसे बर्फबारी से बचाती है।

भूरी सिंह संग्रहालय

यह संग्रहालय 14 सितंबर 1908 ई. को खुला था। 1904-1919 तक यहां शासन करने वाले राजा भूरी सिंह के नाम पर इस संग्रहालय का नाम पड़ा। भूरी सिंह ने अपनी परिवार की पेंटिग्स का संग्रह संग्रहालय को दान कर दिया था। चंबा की सांस्कृतिक विरासत को संजोए इस संग्रहालय में बसहोली और कांगड़ा आर्ट स्कूल की लघु पेंटिग भी रखी गई हैं।

भांदल घाटी

यह घाटी वन्य जीव प्रेमियों को काफी लुभाती है। यह खूबसूरत घाटी 6006 फीट की ऊँचाई पर स्थित है। यह घाटी चंबा से 53 किमी .दूर सलूणी से जुड़ी हुई है। यहां से ट्रैकिंग करते हुए जम्मू-कश्मीर पहुंचा जा सकता है। रास्ते में आपको प्रकृति का मनमोहक नजारा देखने को मिलेगा। जम्मू कश्मीर के रास्ते में आपको पधरी जोत नामक पर्यटक स्थल भी देखने को मिलेगा जन्हा आप प्रकृति की सुंदरता महसूस कर सकते हैं।

भरमौर

चंबा की इस प्राचीन राजधानी को पहले ब्रह्मपुरा नाम से जाना जाता था। 2195 मीटर की ऊँचाई पर स्थित भरमौर घने जंगलों से घिरा है। किवदंतियों के अनुसार 10 वीं शताब्दी में यहां 84 संत आए थे। उन्होंने यहां के राजा को 10 पुत्र और एक पुत्री चंपावती का आशीर्वाद दिया था। यहां बने मंदिर को चौरासी नाम से जाना जाता है। लक्ष्मी देवी, गणेश और नरसिंह मंदिर चौरासी मंदिर के अन्तर्गत ही आतें हैं। भरमौर से कुगती पास और कलीचो पास की ओर जाने के लिए उत्तम ट्रैकिंग रूट है। तथा विश्व में केवल भरमौर में धर्मराज जी का मंदिर मौजूद है जिन्हे हम यमराज के नाम से भी जानते। किवदंतियों के अनुसार माना जाता है कि कोई भी व्यक्ति किसी भी धर्म,समुदाय,देश से सम्बन्ध रखता हो मृत्यु के बाद उसे इस मन्दिर में आना ही होगा इसी मंदिर में हर आत्मा के कर्मों का हिसाब होगा और उसके कर्मानुसार उसे स्वर्ग या नरक की प्राप्ति होगी

चौगान

यह खुला घास का मैदान है। लगभग 1 किलोमीटर लंबा और 75 मीटर चौड़ा यह मैदान चंबा के बीचों बीच स्थित है। चौगान में प्रतिवर्ष मिंजर मेले का आयोजन किया जाता है। एक सप्ताह तक चलने वाले इस मेले में स्थानीय निवासी रंग बिरंगी वेशभूषा में आते हैं। इस अवसर पर यहां बड़ी संख्या में सांस्कृतिक और खेलकूद की गतिविधियां आयोजित की जाती हैं। लेकिन अब चौगान तीन चार हिसों में बंट चूका है

वजरेश्वरी मंदिर

यह प्राचीन मंदिर एक हजार साल पुराना माना जाता है। प्रकाश की देवी वजरेश्वरी को समर्पित यह मंदिर नगर के उत्तरी हिस्से में स्थित जनसाली बाजार के अंत में स्थित है। शिखर शैली में निर्मित इस मंदिर का छत लकड़ी से बना है और एक चबूतरे पर स्थित है। मंदिर के शिखर पर बेहतरीन नक्काशी की गई है।

सूई माता मंदिर

चंबा के निवासियों के लिए अपना जीवन त्यागने वाली यहां की राजकुमारी सूई को यह मंदिर समर्पित है। यह मंदिर शाह मदार हिल की चोटी पर स्थित है। यहाँ सूई माता नें कुछ समय के लिए विश्राम किया था। यहाँ सूई माता की याद में यहां हर साल सूई माता का मेला चैत महीने से शुरू होकर बैसाख महीने तक चलता है। यह मेला महिलाओं और बच्चों द्वारा मनाया जाता है। मेले में रानी के गीत गाए जाते हैं और रानी के बलिदान को श्रद्धांजलि‍ देने के लिए लोग सूई मन्दिर से रानी के वलिदान स्थल मलूना तक जाते हैं।

चामुन्डा देवी मंदिर

यह मंदिर पहाड़ की चोटी पर स्थित है जहां से चंबा की स्लेट निर्मित छतों और रावी नदी व उसके आसपास का सुन्दर नजारा देखा जा सकता है। मंदिर एक ऊंचे चबूतरे पर बना हुआ है और देवी दुर्गा को समर्पित है। मंदिर के दरवाजों के ऊपर, स्तम्भों और छत पर खूबसूरत नक्काशी की गई है। मंदिर के पीछे शिव का एक छोटा मंदिर है। मंदिर चंबा से तीन किलोमीटर दूर चंबा-जम्मुहार रोड़ के दायीं ओर है। भारतीय पुरातत्व विभाग मंदिर की देखभाल करता है।

हरीराय मंदिर

भगवान विष्णु का यह मंदिर 11 शताब्दी में बना था। कहा जाता है कि यह मंदिर सालबाहन ने बनवाया था। मंदिर चौगान के उत्तर पश्चिम किनारे पर स्थित है। मंदिर के शिखर पर बेहतरीन नक्काशी की गई है।
हरीराय मंदिर में चतुमूर्ति आकार में भगवान विष्णु की कांसे की बनी अदभुत मूर्ति स्थापित है। केसरिया रंग का यह मंदिर चंबा के प्राचीनतम मंदिरों में एक है।लखन मंदिर भरमौर… यह हिमाचल प्रदेश का शिखर शैली में बना बहुत पुराना मंदिर है। देवी लक्ष्मी को यहां महिसासुरमर्दिनी रूप में दिखाया गया है। मंदिर में स्थापित देवी की पीतल की प्रतिमा राजा मेरू वर्मन के उस्ताद कारीगर मुग्गा ने बनाई थी। यह मंदिर हिमाचल प्रदेश का प्रमुख और पवित्र तीर्थ स्थल है। यहां हर साल मणिमहेश यात्रा का आयोजन होता है।

रंगमहल

यह प्राचीन और विशाल महल सुराड़ा मोहल्ले में स्थित है। महल में अब हिमाचल एम्पोरियम बना दिया गया है। इस महल की नींव राजा उमेद सिंह ने (1748-1768) डाली थी। महल का दक्षिणी हिस्सा राज श्री सिंह ने 1860 में बनवाया था। यह महल मुगल और ब्रिटिश शैली का मिश्रित उदाहरण है। यह महल यहां के शासकों का निवास स्थल था।

अखंड चंडी महल

चंबा के शाही परिवारों का यह निवास स्थल राजा उमेद सिंह ने 1748 से 1764 के बीच बनवाया था। महल का पुनरोद्धार राजा शाम सिंह के कार्यकाल में ब्रिटिश इंजीनियरों की मदद से किया गया। 1879 में कैप्टन मार्शल ने महल में दरबार हॉल बनवाया। बाद में राजा भूरी सिंह के कार्यकाल में इसमें जनाना महल जोड़ा गया। महल की बनावट में ब्रिटिश और मुगलों का स्पष्ट प्रभाव देखा जा सकता है। 1958 में शाही परिवारों के उत्तराधिकारियों ने हिमाचल सरकार को यह महल बेच दिया। बाद में यह महल सरकारी कॉलेज और जिला पुस्तकालय के लिए शिक्षा विभाग को सौंप दिया गया।

खजियार

खजियार चम्बा की सबसे खूबसूरत जगह है।यह चम्बा से 22 कि. मी की दूरी पर है। लाखो की तादाद में हर वर्ष लोग यहाँ घूमने के लिए आते है। यहाँ एक झील है जो की काफी पुरानी है। और जिसका दृश्य लोगों के मन को भाता है। इस झील पर लगी हुए घास इतनी उपजाओ है। की लोग इस घास को उखाड़ के अपने घर के अगन में उगते है। मशहूर चौगान चम्बा की घास भी यही से लायी गयी है और हर साल खजियार की इस घास को चम्बा के चौगान में उगाया जाता है।

कूंरा

ज़िला मुख्यालय से 53 किलोमीटर की दूरी पर स्तिथ है। उक्त गाँव में भी गद्दी समुदाय के लोग रहते हैं। बताया जाता है कि महभारत काल के दौरान जब कौरवों ने पांडवों की वनवास दिया था तो इस दौरान पांडवों ने माता कुन्ती के साथ दोपहर का भोजन किया था, जिनके नाम पर ही उक्त गाँव का नाम पहले कुन्तापुरी पड़ा था जिसको लोगों ने धीरे धीरे अपनी सहजता के हिसाब के बोलने के लिए कूंरा का नाम दे दिया। कूंरा पंचायत की करीब 1400 जनसँख्या है। यहां पांडवों का बनाया हुआ एक शिव मंदिर है। इसके साथ है पांडवों द्वारा बनाई गई पत्थरों की कई मूर्तियां मौजूद हैं।

छतराड़ी

सड़क के माध्यम से चंबा से 45 किलोमीटर दूर छतराड़ी के इस प्रसिद्ध गांव है। गांव के ज्यादातर गद्दी लोगों का निवास है। भेड़ और बकरियों के पालन में लगे हुए बहुत हैं। इस गांव में 6000 फीट (1,800 मीटर) की ऊँचाई पर स्थित है, यह शक्ति देवी की अपनी उल्लेखनीय पहाड़ी शैली के मंदिर के लिए प्रसिद्ध है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top